Saturday, April 13, 2013

Kuch aise hi hai hum...



Source: Internet

नंगे पाव जल रहे है सिसकती धूप में ,
फिर भी ओस की बूंदों के समान ख्वाबों को हथेली पर लिए चलते है हम 

 ज़िन्दगी कुछ ऐसी ही है, कभी गीली मिट्टी की खुशबू , कभी कच्ची अम्बियो का स्वाद 
फिर भी मंज़ूर है हमें ये धुप छाव का खेल और ये खटास और मिठास 

पंख थोडे घायल ज़रूर है,पर नशा आसमान का आज भी है 
अरमानों की चादर लिए, आज भी हम पाँव पसारे है 

थोड़ी गुस्ताखियाँ  भी करते है हम, थोड़े से नादान ज़रूर है हम,
इसलिए यारियो में हसी बटोरना भुलते नहीं हम 

 टूटे दिल को जोड़ने का खेल जानते है हम, ज़ख्मो पर मरहम लगाना जानते है हम,
इसलिए खामोशियों में भी शोर ढूंढ़ लेते है हम 

जानते है हम, ये रास्ते पथरीले ज़रूर है 
पर थिरकते कदमो को हमने डगमगाने नहीं दिया है 

खट्टी मिठी यादों की गठरियाँ साथ लिए चलते है हम 
इस रूठी हुई ज़िन्दगी से भी खोले बाहे मिलते है हम 

हम काले बादलो को देख,बारिश की बूँदें ढूँदते है 
और काली रैना में चाँद देख खुश होते है 

बिखरे हुए सपनो को भी सहेजकर आँखों की पुतलियों पर रखते है हम 
क्योंकि सपनों की कीमत जानते है हम 

कुछ ऐसे ही है हम, बेपरवाह पवन की तरह ,खाई की गहराई की तरह 
सतरंगी इन्द्रधनुष की तरह ,आवारा झरने की तरह 
टिमटिमाते तारों की तरह ,चमकते जुगनू की  तरह 
हमें टटोलने की कोशिश मत करना,कुछ ऐसे ही है हम !!!!


Nange pav jal rahe hai sisakti dhoop mein,
phir bhi aos ki boondo ke saman khawbo ko hatheli par liye chalte hai hum..

Zindagi kuch aisi hi hai, kabhi gili mitti ki khusboo, kabhi kacchi ambiyo ka swad,
phir bhi manzoor hai humein ye dhoop shav ka khel aur ye khataas aur mithas…

Pankh thode ghayal zaroor hai, par nasha aasmaan ka aaj bhi hai,
armano ki chadaar liye aaj bhi hum paav pasare hai..

Thodi gustakiya bhi karte hai hum,thode se nadaan zaroor hai hum,
isliye yariyo mein hassi batorana bhulte nahi hum

Tute dil ko jodne ka khel jante hai hum,zakhmo par marham lagana jante hai hum
isliye khamoshiyo mein bhi shor ki gunj  dhund lete hai hum…

Jaante hai hum ye rasste patharile zaroor hai,
par thirakte kadamo ko humne dagmagane nahi diya hai

Khatti mitthi yaado ki gathariyo ko sath liye chalte hai hum,
Iss ruthi hui zindagi se bhi khole bahe milte hai hum…

Hum kale baadal dekh, barish ki boondein doondte hai,
aur kali raina mein chand dekh khush hote hai hum…

Bikhare hue sapno ko bhi sahejkar aakhon ki putliyo par rakhte hai hum,
kyunki sapno ki kimat jaante hai hum…

Kuch aisi hai hum, beparwah pawan ki tarah, khayi ki geharayi ki tarah,
satrangi indradhanush ki tarah, awara zarne ki tarah,
timtimate taaro ki tarah, chamakte jugnoo ki tarah,
Humein tatolne ki koshish mat karna, kuch aise hi hai hum….