Saturday, October 13, 2012

Woh.....



                                        
                 वों सागर की लहरें , न जाने कितनी रेत समेट जाती है अपने साथ 
वों बारिश की बूँदे , जानती है एहसास बंजर ज़मीन का 
वों छोटी छोटी बातें , न जाने इतनी यादें समेटे हुए है 
 वों किताबों के खोए हुए पन्ने , कई कहानिया अधूरी रखे है 


 वों अधूरी उड़ान, जानती है  मौसम की बेमानी को 
वों रिश्तों की गाँठ , धागे जैसी नहीं तोड़ी जाती 
वों कागज़ की नाव, नहीं जानती तूफ़ान में तैरना 
वों मिटटी की खुशबू , ताज़गी सी भर देती है दिल में 


वों काजल की कालीमा भी नैनों की शोभा बढाए है 
वों रंग-बिरंगी  चुडिया , नहीं जानती बेरंगी दुनिया का एहसास 
वों गुमसुम आवाज़ , न जाने इतने शोर को महसूस करती है 
वों बंद पलके , नहीं होती है हमेशा निद्रा का इशारा 


वो बच्चों के आखोँ की मासूमियत हम सभी में थी , वक़्त न जाने उसे कहा ले गया
वों नंगे पाँव , जानते है कांटो की चूभन को 
वों अधूरे काफ़िले , जानते है अल्फाजों की कीमत 
वों दिये की लौ , जलकर भी रोशन करती है समा


वों रेत जानती है तुम्हें , जहा तुम अपने पैरों के निशान छोड़ आए हों 
वों सरसराती पवन , कभी सुना करती थी हमारी बातें 
वों रेल की पटरिया, गुज़रती है आज भी तुम्हारे घर से होंकर 
और  वों भूल -भूलैया सी ज़िन्दगी , हमेशा पहेलिया करती रहेगी तुमसे ......


woh sagar ki lehere, na jaane kitni ret samet jati hai apne  sath
woh barish ki boonde, jaanti hai ehsaas banjaar zameen ka
woh choti choti baatein ,na jaane itni yaadein samete hue hai
woh kitabo ke khoye hue panne, kayi kahaniya adhuri rakhe hai

woh adhuri udaan, jaanti hai mausam ki bemani ko
woh rishto ki gaantha, dhaage jaisi nahi todi jati
woh kagaaz ki naav, nahi janti toofan mein tairana
woh mitti ki khusboo, tazagi si bhar deti hai dil mein

 woh kajal ki kalima bhi naino ki shobha badhaye hai..
woh rang-birangi  chudiya, nahi janti berangi duniya ka ehsaas
woh gumsum awaaz, na jane itne shor ko mehsoos karti hai
woh band palke, nahi hoti hai hamesha nidra ka ishara

woh baccho ke aakhon ki masumiyat hum sabhi mein thi, waqt na jane usse kaha le gaya
woh nange pav jaante hai kaanto ki chubhan ko
woh adhure kafile jaante hai alfazo ki kimat
woh diye ki lau, jaalkar bhi roshan karti hai sama

 woh ret jaanti hai tumhe, jaha tum apne pairo ke nishaan chod aye ho
woh sarasrati pavan, kabhi sunna karti thi hamari baatein
woh rail ki patariya, guzarti hai aaj bhi  tumahare ghar se hokar.
woh bhul, bhulaiya si zindagi, hamesha paheliya karti rahegi tumse

2 comments:

Saru Singhal said...

Beautiful, loved the third verse. :)

Monali Churi said...

Thanks Saru :)

Post a Comment